Informative

Suchna Ka Adhikar Adhiniyam Nibandh – Right to Information Act, 2005

Suchna ka Adhikar Adhiniyam kya hai
Written by Puja Kumari

RTI: सूचना का अधिकार अधिनियम क्या है?

Hi Friends! क्या आपको पता है कि Suchna ka Adhikar Adhiniyam Kya Hai? हम सभी जानते हैं कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है. लोकतंत्र में जनता (लोगों) के द्वारा चुनी सरकार होती है, जो देश की शासन सत्ता को संभालती है.

लोकतंत्र को बनाये रखने के लिए समय-समय पर अलग-अलग कानून बनायें जाते हैं, और बदले जाते हैं. इसी तरह के कानून में से एक कानून है, “सूचना का अधिकार” यानि Right to Information Act, 2005. यह कानून नागरिकों का एक मूल अधिकार है. सूचना का अधिकार के द्वारा व्यक्ति किसी तरह की कोई भी सूचना सरकार से प्राप्त कर सकती है.

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करुँगी कि Suchna ka Adhikar Adhiniyam Kya Hai? अगर आप भी Full Information of Right to Information Act in Hindi जानना चाहते हैं, तो यह आर्टिकल अंत तक अवश्य पढ़ें.

Right to Information Act Kya Hai?

फ्रेंड्स, सबसे पहले बात बात करते हैं कि Suchna ka Adhikar Adhiniyam Kya Hai? मैं आपको बताना चाहूंगी कि Right to Information Act 2005 में लागु किया गया था. यह अधिकार सभी जाति, धर्म, वर्ग के लोगों को प्राप्त है. इस अधिकार के द्वारा आम जनता सरकार से सभी तरह की जानकारी या सूचना प्राप्त कर सकती है.

Suchna ka Adhikar Kanoon द्वारा आप सरकार से किसी भी तरह का सवाल कर सकते हैं, और उसका जवाब सरकार से जान सकते हैं. इस कानून को लागु करने का मूल उद्देश्य लोगों को सरकार से सवाल करने का हक़ या अधिकार दिलाना है.

कार्यपालिका के पास “शासकीय गोपनीयता कानून” है, तो विधायिका के पास संसदीय विशेषाधिकार है, न्यायपालिका के पास न्यायालय की आवागमन सम्बन्धी कानून है, तो नागरिको के पास भी एक अचूक हथियार- सूचना का अधिकार आ गया है.

Suchna ka Adhikar Adhiniyam kya hai

सूचना का अधिकार का उपयोग विवेकपूर्ण तथा कुशलता के साथ किया जाए, तो इससे न केवल देश की व्यवस्था में सकारात्मक विकास आएगा, बल्कि यह लोकतंत्र के विकास में भी सहायक होगा. सूचना का अधिकार एक मूल मानव अधिकार है. यह सभी समाज में व्यक्ति के गौरव को बनाये रखने का साधन है. सूचना का अधिकार का प्रयोग करके कोई भी व्यक्ति समाज एवं देश के बारे में जानकारी सरकार से प्राप्त कर सकता है.

Importance of RTI Act in Hindi

अब हम बात करते हैं कि Suchna ka Adhikar Adhiniyam ka Mahatva Kya Hai? आज के समय में भ्रष्टाचार एक ज्वलंत समस्या है, और ये धीरे-धीरे और भी बढ़ रहा है. इसी समस्या को रोकने का कार्य सूचना का अधिकार अधिनियम कर रहा है.

भ्रष्टाचार के अध्ययन हेतु प्रतिष्ठित संस्था “Transparency International” के द्वारा प्रकट आंकड़ों से स्पष्ट होता है कि भारत के विकास को अवरुद्ध करने वाला, निर्धन की रोटी को छिनने वाला कारक भ्रष्टाचार ही है, किन्तु भ्रष्टाचार से मुक्ति पाने के लिए Right to Information Act, 2005 एक सशक्त हथियार है.



Benefits of Right to Information Act in Hindi

सूचना का अधिकार अधिनियम एक व्यापक क्षेत्र है. सूचना का अधिकार मिलने से प्रशासन में पारदर्शिता बढ़ेगी और स्वाभाविक है कि लूट तथा कमीशन की राशि विकास कार्यों में व्यय होगी और परिणामस्वरूप रोजी-रोजगार में बढ़ोतरी होगी. इसके साथ ही इससे हिंसा तथा अपराध में कमी होगी. तो अब हम जानते हैं कि Suchna ka Adhikar Adhiniyam ke Phayde Kya Hai?

  • उर्जा के क्षेत्र में भी सुधार की माँग बढ़ रही है. शिक्षा, स्वास्थ्य,उर्जा सम्बन्धी क्षेत्रों पर भी इस अधिकार का असर हो रहा है.
  • सूचना का अधिकार से उपलब्ध साधन का उचित इस्तेमाल हो रहा है और जन- जागृति बढ़ने से उचित मात्रा में विकास हो रहा है.
  • यह औधोगिक विकास तथा पूंजी निवेश के वातावरण का निर्माण करेगा.
  • गरीबों, दलितों, किसानों, मजदूरों को भी विभिन्न योजनाओं के आवंटन लक्ष्य तथा हिस्सेदारी की जानकारी नहीं रहती है और स्थानीय अधिकारी इन कार्यों के संपादन में भारी अनियमितता बरतते हैं तथा आम लोगों का शोषण करते हैं.
  • वे प्राय: जनता को वास्तविक स्थिति की जानकारी नहीं देते हैं. इस कानून के लागु होने से इस गोपनीयता का रहस्य खुल रहा है क्योंकि निजी स्वार्थ तथा भाईचारे के हित में योजनाओं के चयन तथा राशि आवंटन का पर्दाफाश हो रहा है जिससे मजबूरन उन्हें जनहित में विकास योजनाओं का चयन करना पड़ रहा है.

आज गाँव विकास की ओर अग्रसर है और ग्रामीणों में जागरूकता बढ़ी है. विकास दरों को हम मुख्य रूप से उत्पादन क्षमता, विज्ञान, तकनीकी क्षमता, आपूर्ति क्षमता, परिवहन, दूरसंचार एवं मीडिया के सन्दर्भ में देख सकते हैं. सूचना का अधिकार इन क्षेत्रों में उत्प्रेरक का कार्य कर रहा है.

Right to Information Act के बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप निचे दिए हुए YouTube Video को भी देख सकते हैं.

Suchna ka Adhikar Adhiniyam, 2005

Right to Information Act ऐसे विकास के लिए कार्य करता है जो सहभागिता और विकेंद्रीकरण पर आधारित है. यह सहभागिता और विकेंद्रीकरण नियोजन नीतियों के निर्माण में भी सहायक सिद्ध हो रहा है.

इसे जिस क्षेत्र में भी अपनाया गया है वह क्षेत्र लगातार उन्नति कर रहा है चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो या व्यापर का, ग्रामीण विकास, रोजगार एवं निर्माण का, प्रत्येक क्षेत्र में इसकी प्रासंगिकता बढ़ी है.

सामाजिक विकास के निचले स्तर पर बैठे सामान्य लोगों में अधिकांश का मानना है कि यह अधिकार एक साधन है, जिससे न केवल व्यक्तिगत बल्कि समाज और राष्ट्र की उन्नति के लिए महत्वपूर्ण है.

सरकार ने संविधान एवं कानून के जरिये अपने नागरिकों को सूचना की स्वतंत्रता प्रदान की है. भारत सूचना का अधिकार अधिनियम 12 अक्टूबर, 2005 को लागु किया गया है, जो कहीं न कहीं सम्पूर्ण आम जनता को सत्ता की व्यवस्था में प्रत्यक्ष भागीदारी से सम्बंधित है.

Conclusion: Suchna ka Adhikar Adhiniyam

तो फ्रेंड्स! बस यही है Right to Information Act, 2005 Full Information in Hindi. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल Suchna ka Adhikar Adhiniyam Kya Hai? अच्छा लगा होगा. और अब आपको यह भी अच्छे-से समझ में आ गया होगा कि RTI Kanoon Kya Hai?

Right to Information Act, Suchna ka Adhikar Adhiniyam Kya Hai? इससे सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल है, तो निचे Comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के और Informative Blogs in Hindi पढना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


Suchna Ka Adhikar Adhiniyam Nibandh – Right to Information Act, 2005
4.9 (97.14%) 7 vote[s]

About the author

Puja Kumari

Puja Kumari is an enthusiastic content writer who writes on Technology, Health, Education, General Knowledge & Information and various other topics.

2 Comments

Leave a Comment