Sirdard ka Karan: Types of Headache in Hindi

0
86
Sirdard ke Prakar

Hi Friends! क्या आप Sirdard ka Karan के बारे में जानते हैं. हमें सिरदर्द को मामूली दर्द समझकर नजरंदाज नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह किसी गंभीर बीमारी का पूर्व संकेत भी हो सकता है.

सिरदर्द किसी भी उम्र में किसी को भी हो सकता है चाहे, बच्चे या बूढ़े हों. अक्सर पुरुषों की तुलना में महिलाओं को सिरदर्द अधिक होता है.

सिरदर्द तनाव अथवा बैचेनी में भी हो सकता है क्योंकि इन दोनों परिस्थितियों में सिरदर्द होता है. कुछ लोगों को Migraine तथा Brain tumor के कारण भी अधिक सिरदर्द होता है. इसलिए इसे सामान्य समझकर नजरंदाज न करें और इसका इलाज कराएं.

तो आज मैं आप सभी से इसी विषय पर बात करने जा रही हूँ कि Sirdard Kyo Hota Hai? अगर आप भी सिरदर्द से Sirdard ka Karan के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़ें.

Sirdard ka Karan Kya Hai?

फ्रेंड्स, सबसे पहले हम बात करेंगे कि Sirdard Kaise Hota Hai? कई बार अत्यधिक काम करने के कारण अथवा मस्तिष्क में आई तनाव या  किसी समस्या के कारण सिरदर्द शुरू होता है.

इसके अलावा पढाई या किसी काम को लेकर चिंतित रहते हैं, उसके कारण भी सिरदर्द होता है और जब हम इसका इलाज नहीं करवाते हैं, तो यह गंभीर बीमारी का रूप ले लेता है.

Types of Sirdard in Hindi

सिर दर्द के बहुत प्रकार हैं, जैसे प्राथमिक प्रकार के सिरदर्द में दिमाग की रक्त नलिकाएं, मांसपेशियां, सिर और गर्दन की नश भी शामिल रहती हैं. सिरदर्द के प्रकार सामान्य तौर पर migraine, cluster headache  और tension headache है.

Sirdard Kaise Hota Hai?

  • Brain tumor, Brain Stroke अथवा सिर में आई किसी चोट के कारण भी सिरदर्द होता है. इसे सामान्य समझना नहीं चाहिए, क्योंकि सिरदर्द के कारण कई बीमारियाँ हो सकती हैं.
  • कई बार रातों को सोते समय दांत किटकिटाने की समस्या के कारण दिन में सिरदर्द होता है.
  • इसके अलावा Dehydration की वजह से भी सिरदर्द होता है. अक्सर सिरदर्द किसी दूसरी समस्या के कारण होता है. इसलिए हमें सिरदर्द होने पर तुरंत उपचार करवाना चाहिए.

Types of Headache in Hindi

अब हम बात करेंगे कि कौन- कौन से हैडेक के कारण सिर दर्द होता है. टेंशन शब्द आप सभी सुने होंगे और आप टेंशन में रहते होंगे. यह सबसे प्रचलित समस्या है, ये सिरदर्द का पहला कारण है.

Sirdard Kaise Hota Hai

Tension Headache in Hindi

अधिकतर वयस्कों में सिरदर्द टेंशन हैडेक के कारण होता है. युवावस्था की ओर बढ़ रहे किशोर अथवा किशोरियों में भी पढाई के तनाव की वजह से सिरदर्द होता है.

कामकाजी महिलाओं अथवा पुरुषों को काम का भार अथवा काम की प्रेशर की वजह से सिरदर्द होता है. टेंशन हैडेक हल्के और मध्यम स्तर का हो सकता है. इस तरह का सिरदर्द अचानक आता और जाता रहता है.

Cluster Headache in Hindi

इस प्रकार का सिरदर्द बहुत तेजी से और पीड़ादायक होता है. इसमें दोनों या एक आँख के आसपास तेजी से जलने और चुभने का अहसास होता है.

यह सिरदर्द इतना दुखदायक होता है कि पीड़ित मरीज एक स्थान पर स्थिर नहीं बैठ पाता है.उसे किसी भी तरह चैन नहीं मिलता है.

कुछ मरीजों की आँखें लाल हो जाती हैं. पुतलियाँ सिकुड़ कर छोटी हो जाती है. इस तरह के सिरदर्द का कोई समय नहीं होता है. ये कभी भी ठीक हो सकता है.

सिरदर्द दो हफ्तों से लेकर कई महीनों तक जारी रह सकता है. ऐसा सिर दर्द 15 मिनट से लेकर 3 घंटों तक का हो सकता है. कई बार तो मरीज इसके कारण नींद से भी जग जाता है.

Sinus Headache

सायनस हैडेक में मरीजों को सायनस और गालों की हड्डी, माथे और नाक में गहरा और लगातार दर्द बना रहता है. आमतौर पर इस दौरान नाक से लगातार पानी निकलता रहता है. नाक बंद हो जाते हैं और बुखार आ जाता है. चेहरे पर सुजन भी आ जाती है.



Migraine in Hindi

यह अंतिम सिरदर्द के प्रकार हैं. इस तरह के सिरदर्द को लोग आमतौर पर गैसेस, नजर की कमजोरी, या सायनस के कारण उठा हुआ दर्द मानते हैं. यह सिरदर्द हर व्यक्ति के मामले में अलग-अलग प्रतिक्रिया देता है.

ऐसा सिरदर्द नींद की कमी अथवा अधिक देर तक सोने के कारण होता है. सही समय पर खान-पान न करने और तनाव भी इसका कारण माना जाता है.

Migraine ka Ilaj

माइग्रेन का इलाज जीवनशैली में परिवर्तन से शुरू किया जाता है. खान-पान में ध्यान देना और समय पर करना होगा. इसके बाद माइग्रेन की बीमारी का preventive treatment किया जाता है. इसे rescue therapy से भी ठीक करने का प्रयास किया जाता है.

सिरदर्द में दवा का सेवन करने से क्या होता है ?

सिरदर्द का ठीक से इलाज कराना जरुरी है. इसे केवल दर्द निवारक गोलियों के द्वारा ठीक नहीं किया जा सकता है. दर्द निवारक गोलियों के side effects तकलीफ बढ़ा सकते हैं. इसके अधिक उपयोग से kidney failure भी हो सकता है.

Conclusion: Sirdard ka Karan

तो फ्रेंड्स, बस यही हैं Sirdard ka Karan. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा. और अब आपको अच्छे से भी समझ में आ गया होगा Types of Headache in Hindi के बारे में.

सिरदर्द से सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल हो, तो आप हमें निचे comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के और भी Health Blogs in Hindi के बारे में पढ़ना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here