Sankraman se Bachane ke Upay: संक्रमण से फैलने वाले रोग

0
50
Sankraman se Bachane ke Upay

संक्रमण रोग कैसे फैलता है?

Hi Friends! क्या आप Sankraman se Bachane ke Upay जानते हैं? बरसात का मौसम शुरू हो गया है. आप सभी को बारिश में भीगना और पकोड़ों के साथ गरमा-गरम चाय की चुस्कियां लेने में आनन्द आता होगा.

लेकिन यह खुबसूरत मौसम अपने साथ कई बिमारियों को लेकर भी आता है. इस दौरान flue से लेकर fungal infection जैसी कई स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है.

इस मौसम में होनेवाली गर्मी और नमी रोगाणुओं को पनपने के लिए आदर्श वातावरण बनाती हैं. यहीं वजह है कि मॉनसून में विभिन्न प्रकार के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है.

तो, आज मैं आप सभी से इसी विषय पर बात करने जा रही हूँ कि Sankramak Rog Kaise Phailta Hai? अगर आप भी Sankraman se Bachane ke Upay के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़ें.

Sankraman se Bachane ke Upay

Sankraman Kya Hai?

फ्रेंड्स, सबसे पहले हम बात करेंगे संक्रमण क्या है? रोग ऐसे होते हैं, जो रोगी व्यक्ति के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्षक संपर्क में आने से या उसके साथ किसी भी जरुरत मंद वस्तुओं जैसे भोजन या कपड़ों का साझा करने से फैलता है. इस कारण इसे  छुआछूत के नाम से भी जाना जाता है.

Sankraman se Hone Vale Rog

अब हम बात करेंगे  Sankramak Rog Kaise Phailta Hai? कुछ संक्रमण से फैलाने वाले रोग के बारे में निचे बात करेंगे.

फ्लू (Flue)

बारिश में बच्चे और बुजुर्ग ही नहीं, युवा भी फ्लु के शिकार हो जाते हैं. जिन लोगों का immune system कमजोर होता है, उन्हें फ्लू की चपेट में आने की आशंका अधिक होती है.

फ्लू को ठीक होने में 8-10 दिन का समय लग सकता है. इस दौरान सर्दी, खांसी, बुखार और कंपकंपी लगने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं.

फ्लू संक्रामक है, इसलिए फ्लू होने पर अन्य लोगों से दूर रहें, ताकि वे संक्रमण की शिकार न बने.

डायरिया (Diarrhia)

डायरिया पाचन मार्ग में संक्रमण का एक लक्षण है, जो विभिन्न प्रकार के bacteria, virus और परजीवियों द्वारा फैलता है. यह संक्रमण दूषित भोजन या दूषित पानी पीने से फैलता है.

इसमें एक दिन में तीन या इससे अधिक बार पतले दस्त होते हैं. गंभीर डायरिया के कारण शरीर में पानी की कमी हो जाती है. विशेषकर छोटे बच्चों और उन लोगों में, जो कुपोषण के शिकार हैं, या जिनका रोग प्रतिरोधक तंत्र कमजोर हैं, उन्हें संक्रमण का खतरा अधिक रहता है.

Food Poisoning

बारिश में चारों ओर पानी और कीचड़ हो जाता है, ऐसे में खाद्य पदार्थों के संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है. bacteria, virus दुसरे रोगाणुओं या विषैले तत्वों से संक्रमित खाद्य पदार्थों के सेवन से food poisoning होने की संभावना रहती है. बेहतर है इन दिनों street food न खाएं.



पेट की समस्या

बरसात के मौसम में जठराग्नि मंद हो जाने से पाचन प्रक्रिया प्रभावित होती है. वही इस मौसम में अक्सर लोग घरों में बैठें रहते हैं, जिससे शारीरिक सक्रियता भी कम हो जाती है. यह भी पाचन तंत्र को नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है.

फंगल इन्फेक्शन (Fungal infection)

बारिश में फंगल इन्फेक्शन होने का खतरा भी बढ़ जाता है. रोज नहायें और शरीर को अच्छी तरह सुखाने के बाद ही कपडे पहनें. इससे fungal infection का खतरा कम हो जाता है.

हमेशा सूखे under garment पहनें. अगर बारिश में गिले हो गए हों, तो तुरंत बदल लें. वरना शरीर के निजी अंगों में फंगल इन्फेक्शन हो सकता है.

Sankraman se Bachane ke Upay

अब हम बात करेंगे संक्रमण से बचने के कुछ घरेलु उपाय के बारें में.

  • साफ-सफाई से रहें. प्रतिदिन नहायें और साफ-सुथरे कपडे पहनें. जब भी जरुरी है अपने हाथ को साबुन से धोएं. आप अपने हाथों को जितना साफ रखेंगे, उतने ही रोगाणुओं के कम संपर्क में आयेंगे.
  • नाखूनों को छोटा रखें. क्योंकिं इसमें फँसी गन्दगी से संक्रमण होता है.
  • घर के बने हुए सादे और पोषक भोजन का सेवन करें. अधिक तला-भुना और मसालेदार भोजन न करें. Street food से दूर रहें.
  • मांस को अच्छी तरह पकाकर ही सेवन करें. फलों और सलाद को कटाने से पहले अच्छी तरह से धोएं.
  • बारिश में पत्तेदार सब्जियों का सेवन न ही करे तो बेहतर है, क्योंकि एक तो इनसे संक्रमण फैलने का खतरा होता है, दूसरा इनमें cellulose होता है, जिसे पचाने में परेशानी होती है.
  • हमेशा उबला हुआ और filter किया हुआ पानी ही पिएँ.
  • बारिश में शारीरिक सक्रियता कम न करें, नियमित रूप से exercise और योग करें.
  • बारिश में गिले कपडे न पहने.
  • अगर आप बारिश और सर्दी में हर साल फ्लु की चपेट में आते हैं, तो vaccination पहले ही करा लें.

Conclusion: Sankraman se Bachane ke Upay

तो फ्रेंड्स, बस यही है संक्रमण से बचने के कुछ घरेलु उपाय. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल Sankraman se Bachane ke Upay अच्छा लगा होगा. और अब आपको अच्छे से समझ में भी आ गया होगा कि Sankramak Rog Kaise Phailata Hai?

Sankraman se Hone Vale Rog से सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई भी सवाल हो, तो आप हमें निचे comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के ओर भी Health Blogs in Hindi. पढ़ना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं.

अभी के लिए इतना ही जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here