One Nation One Election Kya Hai? एक देश, एक चुनाव की पूरी जानकारी

1
118
One Nation One Election Kya Hai

एक राष्ट्र-एक चुनाव क्या है?

Hi friends! क्या आपको पता है कि One Nation One Election Kya Hai? अगर आपको पता न हो तो मैं बता दूँ कि नयी लोकसभा बनने के बाद संसद के संयुक्त अधिवेशन में अपने पहले अभिभाषण में राष्ट्रपति न कहा, आज समय की मांग है कि ‘एक राष्ट्र-एक साथ चुनाव’ की व्यवस्था लायी जाए.

पिछले तीन साल में कई बार यह बात कही गयी है कि देश को ‘आम चुनाव’ अवधारणा पर लौटना चाहिए. संसद की एक संयुक्त स्थायी समिति ने इसका रास्ता बताया है.

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करने जा रहा हूँ कि आखिर ये One Nation One Election Kya Hai? अगर आप भी “एक राष्ट्र-एक चुनाव” के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं, तो यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़ें.

One Nation One Election in Hindi

आप सभी जानते हैं कि भारत में आमचुनाव प्रत्येक पांच साल में होता है, लेकिन लोकसभा और विधानसभा चुनाव दोनों एक साथ नहीं होता. इन दोनों में लगभग 6-8 महीनों का अंतर होता है.

अलग-अलग बार चुनाव कराने से सरकार को भी काफी पैसे खर्च करने पड़ते हैं. इसके साथ ही लोगों भी परेशानी होती है. इसी वजह से अब भारत में “एक देश-एक चुनाव” के बारे में चर्चा हो रही है.

One Nation One Election Kya Hai?

अगर भारत में “एक राष्ट्र-एक चुनाव” लागू हो जाती है, तो देश में लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने का प्रस्ताव है. इसके तरह पूरे देश में पांच साल में एक बार ही चुनाव होगा.

इस चुनाव सुधार के सिलसिले में चुनाव आयोग (Election Commission of India) की भी यही राय है. चुनाव एक साथ कराने के पीछे प्रशासनिक और राजनितिक दोनों प्रकार के दृष्टिकोणों पर विचार किया जाना चाहिए.

One Nation One Election ke Phayde

बात करें यहाँ पर हम ‘Ek Rashtra Ek Chunav ke Phayde’ के बारे में, तो इससे समय की बचत होगी और खर्चा भी कम होगा.

One Nation One Election Kya Hai

  • आचार संहिता के कारण सरकारें बड़े फैसले नहीं कर पाती हैं. कई काम रुकते हैं.
  • एक साथ चुनाव होने से आचार संहिता भी एक ही समय लगेगा, इससे विकास कार्य भी अच्छे-से होंगे.
  • केन्द्रीय बलों एवं निर्वाचन कर्मियों की तैनाती और बंदोबस्त में होनेवाला खर्च भी कम होगा.
  • सबसे अच्छी बात कि वोटर को भी अतिशय चुनावबाजी से मुक्ति मिल जायेगी.

अगर आप Benefits of One Nation One Election in Hindi की तरफ ध्यान से देखें, तो इसके कई फायदे हैं. वैसे मैं आपको एक पते की बात बताऊँ; एक राष्ट्र-एक चुनाव कोई नयी बात नहीं है. सन् 1952 से 1967 तक एक-साथ चुनाव होते भी रहे हैं.

एक देश-एक चुनाव सही है या गलत?

हमारे देश में कुछ भी प्रस्ताव रखे जाते हैं, तो उसके ऊपर बहस और विरोध होता ही है. इस One Nation One Election के विरोध में भी कुछ पार्टियों और विशेषज्ञों ने कहा है कि यह भारतीय लोकतंत्र की विविधता के विपरीत बात होगी.

  • उनका तर्क है कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव के मुद्दे अलग होते हैं.
  • एक-साथ चुनाव कराने पर केन्द्रीय मुद्दा चुनाव पर हावी हो जाता है, स्थानीय मुद्दे पीछे चले जाते हैं.
  • इससे क्षेत्रीय दलों को नुकसान होगा. क्षेत्रीय भावनाओं की अवहेलना होगी.
  • 73वें और 74वें संविधान संशोधनों के बाद लोकतंत्र की एक तीसरी सतह भी तैयार हो गयी है.
  • स्थानीय निकायों के मुद्दे और भी अलग होते हैं. तीनों सतहों पर चुनाव कराना और भी मुश्किल होगा.
  • भारत में 4120 विधायकों और 543 लोकसभा सीटों के लिए चुनाव होता है. ढाई लाख के आसपास ग्राम सभाएं हैं, शहरी निकाय भी है. इसकी व्यावहारिकता पर विचार करना चाहिए.

Conclusion: One Nation One Election Kya Hai?

तो फ्रेंड्स! बस यही है एक राष्ट्र-एक चुनाव के बारे में पूरी जानकारी. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल One Nation One Election in Hindi अच्छा लगा होगा. और अब आपको यह भी अच्छे-से पता चल गया होगा कि One Nation One Election Kya Hai?

मेरे ख्याल से तो “एक देश-एक चुनाव” की निति बिलकुल सही है, आप इसके बारे में क्या सोचते हैं. One Nation One Election से सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल हो, तो निचे Comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के और Informative Blogs in Hindi पढना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here