NPR Kya Hai

NPR Kya Hai? NRC और NPR में क्या अंतर है?

Hi friends! क्या आपको पता है कि NPR Kya Hai? अगर आप दैनिक न्यूज़ से अवगत रहते हैं, तो हाल के दिनों में आपने यह शब्द सुना ही होगा। इसके साथ ही काफ़ी लोग इसे NRC से जोड़ रहे हैं, लेकिन यह उससे थोड़ा अलग है।

हाल में केंद्र सरकार की कैबिनेट ने 2021 की जनगणना और NPR को अपडेट करने की मंज़ूरी दे दी। यह जनगणना 2021 में होगी, लेकिन NPR अपडेट का काम असम को छोड़कर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में अप्रैल 2020 से सितंबर 2020 तक चलेगा।

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करने जा रहा हूँ कि NPR Kya Hai? NRC aur NPR me Kya Difference Hai? अगर आप भी इसके बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते हैं, तो यह लेख अंत तक ज़रूर पढ़ें।

NPR Kya Hai?

सबसे पहले अगर यहाँ पर हम बात करें Full Form of NPR के बारे में, तो National Population Register है। NPR सामान्य रूप से भारत में रहनेवालों का एक रजिस्टर है।

भारत में रहनेवालों के लिए NPR के तहत यह रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। यह काम जनगणना की तरह घर-घर जाकर होगा। यह भारतीयों के साथ भारत में रहनेवाले विदेशी नागरिकों के लिए भी अनिवार्य होगा।

इसका उद्देश्य देश में रहनेवाले लोगों की पहचान से जुड़ा डेटाबेस तैयार करना है। पहला NPR 2010 में तैयार किया गया था और उसे 2015 में अपडेट किया गया था।

इसे नागरिकता क़ानून 1955 और Citizenship (Registration of Citizens & Issue of National Identity Cards) Rules, 2003 के प्रावधानों के तहत गाँव, पंचायत, ज़िला, प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर किया जाएगा।

नागरिकता नियम- 2003 के अनुसार एक सामान्य निवासी वह है, जो भारत के किसी इलाक़े में पिछले छह महीने से रहा है या इससे ज़्यादा समय तक रहना चाहता है।

Difference Between NRC and NPR in Hindi

NPR के तहत जो डेटाबेस तैयार होगा, उसमें व्यक्ति का नाम, घर के मुखिया से संबंध, माता-पिता का नाम, विवाहितों के पति और पत्नी के नाम, लिंग, जन्मतिथि, सिंगल और विवाहित, जन्म स्थान, राष्ट्रीयता, वर्तमान पता, वर्तमान पते पर कब तक रहना है, स्थायी निवास, प्रोफेशन और शैक्षणिक डिग्रियों की जानकारी माँगी जाएगी।

NPR और National Register of Citizens (NRC) अलग है। NRC में विदेशी नागरिक शामिल नहीं होंगे। असम में NPR को लागू नहीं किया जाएगा।

वहाँ हाल में NRC को लागू किया गया था और इसके तहत अवैध अप्रवासियों को अलग किया गया। NRC का उद्देश्य अवैध प्रवासियों की पहचान कर उन्हें वापस भेजना है।



राज्य-विहीन लोग कौन हैं?

राज्य-विहीन व्यक्ति वह होता है, जिसे कोई भी देश अपना नागरिक नहीं मानता। ऐसे कुछ व्यक्तियों को शरणार्थी कह सकते हैं, पर सभी शरणार्थी राज्य-विहीन नहीं होते।

किसी देश का नागरिक बनने की कुछ बुनियादी शर्तें हैं। एक, भूमि-पुत्र होना। यानी जिस ज़मीन पर व्यक्ति का जन्म हो, वह उस देश का नागरिक हो। ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका इस सिद्धांत को मानते हैं।

दूसरे वंशज होना। माता-पिता की नागरिकता को ग्रहण करना। दुनिया के ज़्यादातर देश इस सिद्धांत को मानते हैं। व्यक्ति के पास इस दोनों के प्रमाण नहीं होते, तो वह राज्य-विहीन हो जाता है।

दुनिया के देशों में नागरिकता नियम अलग-अलग हैं। सभी जगह जन्म के पंजीकरण की व्यवस्था नहीं है, इस कारण जटिलताएँ हैं। दुनिया में एक करोड़ से राज्य-विहीन लोग हैं।

Conclusion: NPR Kya Hai?

तो फ़्रेंड्स, बस यही है NPR aur NCR me Difference. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा और अब आपको यह भी अच्छे-से पता चल गया होगा कि NPR Kya Hai?

इससे सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल हो, तो नीचे Comment कर ज़रूर बताएँ। अगर आप इसी तरह के और Informative Blogs in Hindi पढ़ना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं।

अभी के लिए बस इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ। Keep Reading… Keep Growing…


Leave a Comment