Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye? Jyada Namak Khane ke Nuksan

1
127
Namak ka Sevan Kitana karana Chahiye

Salt: Namak ka Sevan Kitna Kare?

Hi friends! क्या आपको पता है कि Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye? नमक भोजन का एक बहुमूल्य सामग्री है, जिसका सेवन हम सभी के लिए जरुरी है.

नमक के अभाव में हमारा भोजन पूर्ण नही हो सकता है. इसलिए नमक एक सर्वश्रेष्ट खाद्य सामग्री है, जिसका सेवन हम सभी मानव भोजन के रूप में करते हैं. नमक सिर्फ खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ता, बल्कि कई शारीरिक क्रियाओं में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है.

Salt/नमक के बिना हम जीवित नहीं रह सकते, लेकिन जब इसी नमक की मात्रा हमारे शरीर में आवश्यकता से अधिक हो जाती है, तो यह हमारे लिए जानलेवा हो जाता है. यह आपके ह्रदय और किडनियों को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है और उच्चरक्तचाप जैसी बीमारी भी हो सकती है.

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करने जा रहा हूँ कि Namak ka Sevan Kitna Kare? Salt/Namak Kitni Matra me Khana Chahiye? अगर आप भी Jyada Namak Khane ke Nuksan के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते हैं, तो यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़ें.

Importance of Salt in Human Body

फ्रेंड्स, सबसे पहले हम यह जानते हैं कि हमारे शरीर के लिए Namak Kyo Jaruri Hai? उसके बाद हम बात करेंगे कि Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye?

Namak ka Sevan

नमक crystalline mineral यानि क्रिस्टलिय खनिज होता है, जो सोडियम और क्लोरिन से बना होता है. ये दोनों तत्व जीवन के लिए बहुत जरुरी हैं. हम इनके बिना नहीं रह सकते हैं, क्योंकि ये कई महत्वपूर्ण बायोलॉजिकल प्रक्रियाओं में योगदान देते हैं. कोशिकाओं के अन्दर और बाहर पानी की मात्रा को नियंत्रित करते हैं.

पोषक तत्वों को कोशिकाओं के अन्दर और बाहर ले जाते हैं. Digestion & Metabolism में सहायता करते हैं. तंत्रिकाओं को electric impulses को बाहर भेजने में सहायता करते है. किडनियों की कार्यप्रणालियों में सहायता करते हैं.

Blood Pressure यानि रक्तदाब को बनाये रखते हैं ओर नियंत्रित करते हैं. मस्तिष्क के कार्यों में सहायता करते हैं. तो अगर आप देखें तो Namak ke Bahut Phayde Hai. इस प्रकार अगर हम Namak ka Sevan सही से नहीं करते हैं, तो इससे हमें कई तरह की समस्या हो सकती हैं.



Types of Salts in Hindi

अगर आपको पता न हो तो मैं बताना चाहूँगा कि नमक एक ही प्रकार का नहीं होता है. जो नमक हम रोज अपने भोजन में इस्तेमाल करते हैं, उसके अलावा भी और कई प्राकर के नमक होते हैं.

बाजार में कई प्रकार के नमक मिलते हैं जिनका रंग, texture, स्वाद ओर पोषक मूल्य अलग -अलग होते हैं; लेकिन इनमें से refined table salt, sea salt, pink himalayan salt, सेल्टिक साल्ट सर्वाधिक प्रचलित है.

Refined Salt Kya Hai?

Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye? ये जानने से पहले हम Khane ka Namak Kaun sa hai?  जिसे टेबल या कुकिंग साल्ट भी कहते हैं.इसे समुद्र के पानी को वाष्पीकृत करके बनाया जाता है.इसे खानें लायक बनाने के लिए 1.200डिग्री फोरेनहाईट पर सुखाया जाता है.Namak ka Sevan Kitana karana Chahiye

अत्यधिक गर्मी नमक की प्राकृतिक रासायनिक संरचना को बदल देती है.प्रक्रिया के दौरान इसमें एंटी –केकिंग एजेंट मिलाया जाता है, ताकि नमक जमे नहीं. इसमें iodine भी मिलाया जाता है, ताकि thyroid तथा goiter जैसे रोगों से बचा जा सके.

Refined salt के फायदे हैं कि ये हमारे भोजन के स्वाद को बढाता है. और हमारे शरीर में Iodine की मात्रा भी उपलब्ध करता है.

Meaning of Sea Salt

तो दोस्तों अब हम Sea Salt या समुद्री नमक के बारे में बात करेंगे. इसे सेंधा नमक भी कहते हैं. इसका टेक्सचर refined salt से अलग होता है.

Sea Salt कम पिसा हुआ होता है, अर्थात इसमें नमक के कण बड़े होते हैं. इसे भी समुद्र के पानी को वाष्पीकृत करके ही बनाया जाता है और आमतौर पर इसमें मिनरल्स, जैसे- potassium, iron और zinc के अंश होते हैं.

सेंधा नमक, रिफाइंड से बेहतर माना जाता है.ये नमक का प्रयोग त्योहारों में किया जाता है, जिसे हम सभी उपवास में इसी नमक का सेवन करते हैं.

What is Pink Salt in Hindi?

Pink Salt Kya Hai? Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye? इसे नमक की खदान से निकला जाता है. इसमें थोड़ी मात्र में iron oxide के अंश होते हैं, जो इसे गुलाबी रंग देता है.

इसमें थोड़ी मात्र में calcium, iron, potassium और magnesium भी होता है. इसमें सोडियम की मात्र refined नमक से थोड़ी कम होती है.

पिंक साल्ट का सेवन रक्त के संचरण को बढाता है और कोशिकाओं के अन्दर pH balance को stabilize करता है.

Gray Salt ke Fayade?

तो दोस्तों नमक के प्रकार में एक मत्वपूर्ण Gray salt है. ग्रे साल्ट को सेल्टिक सी साल्ट कहते हैं. यह सुरमई रंग का होता है, इसलिए इसे ग्रे साल्ट कहते हैं. यह नमक नमी रोककर रखता है.

यह electrolyte का संतुलन पुनः स्थापित करने में सहायता करता है. Gray salt, pink salt की तरह ही मांसपेशियों की एंठन में आराम पहुंचाता है.

यह थोडा महंगा होता है, क्योंकि इसे निकालने और प्रोसेस करने में काफी खर्च आता है.



Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye

अभी तक आप सभी को तो पता चल ही गया होगा कि Namak Ke Fayade Kya Hai? तो अब हम बात करते हैं Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye?

ज्यादा नमक खाने से high blood pressure हो जाता है, तो कम नमक low blood pressure का कारण बनता है. असंतुलित मात्र में सेवन करने से मांसपेशियों में ऐंठन हो जाती है, इसलिए जरुरी है कि उचित मात्रा में इसका सेवन किया जाए.

Namak ka Sevan Kitana karana Chahiye

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार एक मनुष्य को जीवन के विभिन्न स्तरों पर प्रतिदिन Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye? हम सभी को निम्न मात्रा में नमक की जरुरत होती है-

  • 0-12 माह : 1 ग्राम से कम
  • 1-3 साल : 2 ग्राम
  • 4-6 साल : 3 ग्राम
  • 7-10 साल : 4 ग्राम
  • 11 से ऊपर : 5 ग्राम

Namak Ke Nukasan Kya Hai?

अगर आप नमक का अधिक मात्र में सेवन करेंगे, तो आपकी किडनियों को electrolytes और fluids का संतुलन बनाने में अधिक मेहनत करनी पड़ेगी.

अत्यधिक नमक रक्त में electrolyte और fluid के संतुलन को गड़बड़ा देता है. इससे ह्रदय को रक्त पंप करने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है, इससे रक्त नालियों में दाब बढ़ता है. आगे रक्त नलिकाएं क्षतिग्रस्त होकर किडनी फंक्शन को प्रभावित करती हैं.

Kam Matra me Namak Ka Sevan Kare?

आप सभी को पता चल ही गया है कि Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye?  सामान्य मात्रा में नमक का सेवन शारीर के सुचारू रूप से कार्य करने के लिए जरुरी है, लेकिन अधिक मात्र में सेवन गंभीर बिमारियों का खतरा बढ़ा देता है. अत्यधिक नमक के सेवन से उच्च रक्तचाप के अलावा stroke, ह्रदय रोग, हार्ट फेलियर और किडनी फेलियर की आशंका कई गुना बढ़ जाती है.

लेकिन जिन लोगों को उच्च रक्तचाप की समस्या नहीं है, उन्हें भी औसत से कम मात्र में नमक का सेवन करना चाहिए. इस बात का कोई वैज्ञानिक आधार उपलब्ध नहीं है, लेकिन कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि अगर सामान्य व्यक्ति भी प्रतिदिन नमक के सेवन को 1/3 से घटा दे, तो stroke की आशंका 22 प्रतिशत और हार्ट अटैक की आशंका 16 प्रतिशत कम हो जाएगी.

भोजन में सोडियम की मात्रा कम करना और potassium का सेवन बढ़ाना उच्च रक्तचाप से बचने का सबसे कारगर तरीका है.

Conclusion : Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye?

तो फ्रेंड्स! बस यही है Consumption of Salt in Hindi. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल Namak ka Sevan Kitna Karna Chahiye? और अब आपको यह भी पता चल गया होगा कि Jyada Namak se Nuksan क्या-क्या हैं?

नमक के उपभोग से सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल है, तो निचे Comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के Health Blogs in Hindi पढना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here