Green Patakha Kya Hota Hai? Diwali Green Crackers in Hindi

0
43
Green Patakha Kya Hai

What are Green Crackers in Hindi?

Hi friends! क्या आपको पता है कि Green Patakha Kya Hai? पिछले साल दिवाली पर पटाखों की बिक्री को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि दिवाली पर पटाखे जलाने पर रोक नहीं है. लेकिन पटाखे रात 8 से 10 बजे के बिच सिर्फ 2 घंटे के लिए ही जलाए जा सकेंगे.

साथ ही दिवाली या अन्य किसी त्यौहार पर सिर्फ (Green Crackers) ग्रीन पटाखे यानि कम प्रदुषण फैलानेवाले पटाखों का ही इस्तेमाल किया जा सकेगा. अब सवाल यह है कि आखिर Green Patakha Kya Hai? और ऐसे कौन-से पटाखे हैं, जिन्हें जलाने से प्रदुषण कम होगा?

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करने जा रहा हूँ कि Green Crackers Kya Hota Hai? अगर आप भी Green Patakha/Green Crackers ke Phayde जानना चाहते हैं, तो यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़ें.

Green Patakha Kya Hai?

फ्रेंड्स, सबसे पहले हम यह जानते हैं कि Green Crackers Kya Hai? तो मैं आपको बता दूँ कि ग्रीन पटाखा उनको कहा जाता है, जिनमें परम्परागत पटाखों के मुकाबले कम खतरनाक और कम नुकसानदायक केमिकल का यूज़ होता है.

हालाँकि, अभी ये पटाखे बाजार में उपलब्ध नहीं है, लेकिन चार से पांच वर्षों के अन्दर उसके बाजार में आने की उम्मीद है. इन Green Crackers ka Chemical Formulation ऐसा होता है, जो पानी का अणु पैदा करता है. उत्सर्जन का स्तर घटाता है और धुलकणों को सोखता है.

इन पटाखों में particulate matter, nitrous oxide और sulphur oxide जैसे प्रदूषक 30-35 प्रतिशत तक कम होते हैं. मुख्य तौर पर यह light & sound show होता है, जो प्रदुषण कम फैलाते हैं.

Formula of Green Crackers in Hindi

Green Patakha Kya Hai? यह तो आपको अब मालूम चल गया होगा. अब हम बात करते हैं कि अभी तक किसने Green Crackers ka Formula Banaya Hai?

वैसे तो किसी भी पटाखे को पूरी तरह से pollution-free यानि प्रदुषण रहित नहीं बनाया जा सकता, लेकिन CSIR यानि Council of Scientific & Industrial Research के वैज्ञानिकों ने पटाखों का ऐसा फार्मूला तैयार किया है, जिसे ग्रीन पटाखों की केटेगरी में रखा जा सकता है.

इन पटाखों में धुल को सोखने की क्षमता है. साथ ही इन पटाखों से होने वाला उत्सर्जन लेवल भी बेहद कम है. इनमें पटाखों का एक फार्मूला ऐसा भी है, जिससे water molecules यानि पानी के अणु उत्पन्न हो सकते हैं, जिससे धुल और खतरनाक तत्वों को कम करने में मदद मिलेगी.

Prototypes of Green Patakha Kya Hai?

इसके अलावा e-crackers यानि इलेक्ट्रॉनिक पटाखों का प्रोटोटाइप भी तैयार है और अगर आप चाहें तो दिवाली पर ई-पटाखे भी जला सकते हैं.

Green Patakha Kya Hai

CSIR व नीरी इंस्टिट्यूट के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित किये गए पटाखों के इस फार्मूला को Petroleum and Explosives Safety Organization (PESO) के पास भेजा जा चूका है और एक बार PESO इसे approve कर दे, उसके बाद इन पटाखों का निर्माण तेजी से किया जा सकेगा, ताकि दिवाली के मौके पर पटाखों की डिमांड को पूरा किया जा सके.



Types of Green Crackers in Hindi

अब हम ग्रीन पटाखों के बारे में थोडा विस्तार से जानते हैं कि ये कितने प्रकार के होते हैं. तो Green Patakhe सामान्यतः 4 तरह के होते हैं.

  • पानी पैदा करने वाले पटाखे
  • सल्फर कम पैदा करने वाले पटाखे
  • कम एल्युमीनियम वाले पटाखे
  • Aroma Crackers या खुशबू वाले पटाखे

अब हम इन सभी Types of Green Crackers के बारे में एक-एक कर थोडा जानते हैं कि इनमें क्या खासियत है?

Water Producing Green Crackers Kya Hai?

इस तरह के ग्रीन पटाखों की खास बात है कि ये पटाखे जलने के बाद पानी के कण पैदा करेंगे, जिसमें सल्फर और नाइट्रोजन के कण घुल जायेंगे.

नीरी ने इन्हें safe water releaser का नाम दिया है. पानी प्रदुषण को का करने का बेहतर तरीका माना जाता है. पिछले साल दिल्ली के कई इलाकों में प्रदुषण का स्तर बढ़ने पर पानी के छिडकाव की बात कही जा रही थी.

Less Sulphur Emitting Green Crackers in Hindi

नीरी ने इन पटाखों को star cracker का नाम दिया है, यानि safe thermite cracker. इनमें oxidizing agent का उपयोग होता है, जिससे जलने के बाद सल्फर और नाइट्रोजन कम मात्रा में पैदा होते हैं. इसके लिए खास तरह के केमिकल का इस्तेमाल होता है.



कम एल्युमीनियम वाले पटाखे

इस पटाखे में सामान्य पटाखों की तुलना में 50 से 60 प्रतिशत तक कम कम एल्युमीनियम का इस्तेमाल होता है. इसे संस्थान safe minimal aluminium यानि ‘SAFAL’ का नाम दिया है.

Aroma Crackers Kya Hai?

इन पटाखों को जलाने से न सिर्फ हानिकारक गैस कम पैदा होगी, बल्कि ये बेहतर खुशबू भी बिखरेंगे.

Conclusion: Green Patakha Kya Hai?

तो फ्रेंड्स! बस यही है Full Information about Green Crackers in Hindi. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल Green Patakha ke Phayde अच्छा लगा होगा. और अब आपको यह भी अच्छे-से पता चल गया होगा कि Green Crackers Kya Hota Hai?

Benefits of Green Crackers in Hindi से सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल हो, तो निचे Comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के और Informative Blogs in Hindi पढना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here