Informative

Flag Code of India in Hindi: राष्ट्रिय ध्वज फहराने के नियम

Flag Code of India in hindi
Written by MN Hemant

National Flag Hoisting Rules in Hindi: Flag Code of India

Hi friends! यह है Flag Code of India यानि भारतीय ध्वज संहिता के बारे में एक्सक्लूसिव लेख. भारतीय होने के नाते National Festivals हमारे पहले पर्व व त्यौहार हैं.

15 August, Independence Day और 26 January, Republic Day के पावन अवसर पर सभी सरकारी व गैर-सरकारी कार्यालयों, स्कूल, कॉलेज, शैक्षिक संस्थाओं और सार्वजनिक भवनों में National Flag Hoisting यानि ध्वजारोहण होता है.

हम Indian, इन राष्ट्रिय पर्वों को celebrate करने के लिए अपने cars & bikes में भी Tirange को लगाते हैं. वैसे मैं आपको सचेत कर दूँ कि National Flag of India को फहराने के कई नियम हैं. अगर आप किसी भी तरह से तिरंगे को असम्मान करते हैं, तो आपको सजा भी हो सकती है.

तो आज मैं आपसे Flag Code of India in Hindi के बारे में ही बात करने जा रहा हूँ कि National Flag Phahraane ke Niyam क्या-क्या हैं? अगर आप भी National Festivals को अच्छे से मनाना चाहते हैं, तो यह आर्टिकल Indian national Flag Hoisting Rules in Hindi अंत तक जरुर पढ़ें.

Flag Code of India Kya Hai?

फ्रेंड्स, सबसे पहले हम यह जानते हैं कि आखिर यह Flag Code of India Kya Hai? तो भारतीय ध्वज संहिता हमारे National Flag, तिरंगे को फहराने का नियम और कानून है.

Flag Code of India in Hindi

Indian Constitution में राष्ट्रिय ध्वज से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं, जिसका अगर आप उल्लंघन करते हैं; तो आपको सजा भी हो सकती है.

Flag Code of India, 26 January, 2002 से लागू किया गया है. उससे पहले राष्ट्रिय ध्वज का प्रयोग करने के लिए कोई कानून नहीं था. और आम जनता को भी झंडा फहराने का अधिकार नहीं था.

लेकिन इसके लागू होने से राष्ट्रिय झंडे को स्वतन्त्र रूप से फहराने का अधिकार सभी नागरिकों के पास है. हम राष्ट्र के प्रति अपनी अपनी निष्ठा और भावनाओं की अभिव्यक्ति गर्व से कर सकते हैं.

Flag Code of India ‘Part I’ in Hindi

भारतीय ध्वज संहिता को तीन भागों में बांटा गया है. सबसे पहले हम प्रथम भाग के बारे में बात करते हैं तो यह मानक ध्वज के विवरण आयर आयाम से सम्बंधित है. Indian National Flag के जो भी सामान्य जानकारी है, वे सभी आपको इस भाग में देखने को मिल जाएँगे.

  • भारतीय राष्ट्रिय ध्वज, तिरंगा 3 बराबर आयताकार पट्टियों से बना हुआ है. सबसे ऊपर केसरिया (saffron), बिच में सफेद और निचे वाली पट्टी में हरा रंग (green) होता है.
  • बिच की सफेद पट्टी में गहरे नील रंग के अशोक चक्र (Ashok Chakra) में 24 तीलियाँ होती हैं.
  • ध्वज की लम्बाई और ऊंचाई का अनुपात 3:2 होता है.

Flag Code of India Standard Flag Size

  • एक मानक ध्वज हाथ से काते गए और हाथ से बुने हुए ऊनि/सूती/सिल्क खादी के कपडे से बनाया जाता है.
  • भारतीय ध्वज संहिता में कुछ मानक ध्वज परिमाण भी दिए हुए हैं, जो निम्न हैं.
Flag No.Size in Milimeter (mm)
16300 * 4200
23600 * 2400
32700 * 1800
41800 * 1200
51350 * 900
6900 * 600
7450 * 300
8225 * 150
9150 * 100


राष्ट्रिय ध्वज फहराने के नियम के बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप निचे दिए हुए YouTube Video को भी देख सकते हैं.

Flag Code of India ‘Part II’ in Hindi

भारतीय ध्वज संहिता, 2002 का दूसरा भाग संशोधन प्रदर्शन संहिता के साथ सम्बंधित है और इसमें public, private organizations, educational institutions, etc. के साथ ही एक नागरिक के लिए ध्वज के संचयन/निपटान के लिए दिशा-निर्देश हैं.

  • Indian National Flag को हमेशा सम्मान के साथ और वहीँ फहराया जाए, जहाँ से वह स्पष्ट रूप से दिखाई दे.
  • सार्वजनिक भवनों पर इसे सूर्योदय से सूर्यास्त (sunrise to sunset) तक ही फहराना चाहिए.
  • ध्वज को कभी भी उल्टा प्रदर्शन न करें. अगर आप केसरिया पट्टी को निचे और हरी पट्टी को ऊपर करते हैं, तो वो एक अपराध से कम नहीं है.
  • झंडे को पूरी स्फूर्ति के साथ फहराया जाना चाहिए और धीरे-धीरे और आधार के साथ उतारना चाहिए.
  • अगर आपके पास कोई पुराना झंडा है जो गन्दा है या फटा हुआ है, तो उसे न फहराएं.
  • भारतीय राष्ट्रिय ध्वज को कभी भी कहीं भी सजावट के रूप में प्रयोग न करें. इसके साथ ही किसी चीज़ को ढंकने के काम में भी प्रयोग न करें.
  • National Flag हमारी आन, बाण, शान और पहचान है. इसे फाड़ना, क्षतिग्रस्त करना, जलाना या किसी भी तरह से अपमानित नहीं करना है.
  • झंडे पर कभी भी कुछ भी न लिखें. उसे सम्मान के साथ साफ रखना है.

Flag Code of India ‘Part III’ in Hindi

अब हम Flag Code of India के तृतीय भाग के बारे में बात करते हैं. इसमें रक्षा प्रतिष्ठानों को छोड़कर ध्वज को सही स्थान पर फहराने, रखने और निपटान करने जैसे दिशा-निर्देशों दिए हैं, जो अपने स्वयं के झंडा प्रदर्शन संहिता द्वारा शासित होते हैं. भारतीय ध्वज संहिता के इस भाग में Central & State Government और उसके organizations and agencies के द्वारा राष्ट्रिय ध्वज प्रदर्शन के guidelines दिए हुए हैं.

Flag Code of India Flag Hoisting Rules

  • केवल सशस्त्र बलों के कर्मियों या राज्य या केंद्रीय पैरा सैनिक बलों के सदस्य के अंतिम संस्कार की स्थिति में, झंडा ताबूत को कवर करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन इससे पहले कि व्यक्ति को दफनाया या दाह संस्कार किया जाए झंडे को हटा दिया जाना चाहिए.
  • परेड के दौरान जब झंडे को सलामी दी जाती है तो सभी लोगों को झंडे के सामने सावधान (attention) की स्थिति में खड़े होना चाहिए, जबकि जो वर्दी वाले लोग हैं उन्हें सावधान की स्थिति में झंडे को salute करते हुए खड़े होना चाहिए.
  • अन्य देशों के झंडे के साथ प्रदर्शित होने पर, Indian National Flag को पंक्ति के किनारे से दाईं ओर (दर्शकों के बाईं ओर) या सर्कल की शुरुआत में प्रदर्शित किया जाना चाहिए.


Bikes & Cars me National Flag Phahrane ke Niyam

आजकल हर साल 26 January और 15 August के दिन काफी लोग अपने bikes, cars & vehicles में तिरंगे को लगाते हैं, तो उसके सम्बन्ध में Flag Code of India में आखिर क्या कानून है.

अगर आप भारतीय ध्वज संहिता को देखें तो केवल राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यपालों और प्रतनिधि गवर्नर, प्रधानमंत्री और कैबिनेट मंत्रियों, भारतीय मिशनों के प्रमुखों/विदेश में पोस्ट, भारत के मुख्य न्यायाधीश और कुछ अन्य लोगों को संहिता के अनुसार अपनी कारों में राष्ट्रीय ध्वज के उपयोग की अनुमति है.

मेरे ख्याल से यह नियम प्रतिदिन के लिए लागु होता है. किन्तु अगर आप National Festivals के दिन अपने bikes, cars, cycles & vehicles में तिरंगे को लगाना चाहते हैं, तो इसका भी एक अलग नियम है. हमेशा कोशिश करें कि झंडे का position, driver के facing side के right side या फिर centre में होना चाहिए. इसके साथ ही आप यह भी ध्यान रखें कि आपका झंडा गन्दा न हो, वो जमीन पर न गिरे.

Indian National Flag Half-masting in Hindi

  • President or Vice-President या भारत के प्रधानमंत्री की मृत्यु पर या पूरे देश में राष्ट्रीय शोक पर भारतीय राष्ट्रिय ध्वज को आधा लहराया जाता है.
  • एक राज्यपाल, उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री की मौत के मामले में, राष्ट्रीय ध्वज राज्य या संघ राज्य क्षेत्रों में आधा झुका लहराया जाता है.
  • विदेश में भारतीय दूतवासों के मामले में, भारतीय राष्ट्रीय ध्वज केवल राज्य के प्रमुख की मृत्यु या राज्य सरकार के प्रमुख की मृत्यु की स्थिति में आधा झुका लहराया जाता है.
  • झंडे को आधा झुकाने (half-masting) से पहले इसे ऊपर ऊठाया जाता है. इस स्थिति का अर्थ होता है कि राष्ट्र को गर्वांवित करना और चिंता के साथ सम्मान से विदाई देना.

Flag Code of India National Flag


National Flag Rules Violation in Hindi

अब हम बात करते हैं कि Flag Code of India में जो भी National Flag Hoisting Rules हैं, अगर आप उसका उल्लंघन करते हैं; तो क्या होगा? तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि Prevention of Insults to National Honour Act, 1971 (2003 Amendment) में झंडे को जमीन पर रखने जैसे कई अनादारों पर सजा का प्रावधान है.

पहले अपराध पर 3 साल तक की जेल की सजा और जुर्माना देना पड़ेगा. इसके बाद अपराधों में कम-से-कम एक वर्ष के लिए जेल कारावास से दण्डित किया जाएगा. अगर आप किसी भी तरह से National Flag को disrespect करते हैं, अपमान करते हैं; तो आपको सजा भी हो सकती है. इसलिए Indian National Flag को हमेशा सम्मान दें और अच्छे से राष्ट्रिय पर्वों को मनाएं.

Conclusion: Flag Code of India in Hindi

तो फ्रेंड्स, बस यही हैं Indian National Flag Hoisting Rules in Hindi . मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल Flag code of India in Hindi अच्छा लगा होगा. और अब आपको अच्छी तरह से पता चल ही गया होगा कि Indian National Flag ko Phahraane ke Niyam aur Kanoon क्या-क्या हैं?

Flag Code of India से सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल हो, तो निचे Comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के और Informational Blogs in Hindi पढना चाहते हैं, तो आप हमारे Email Newsletter में अपना Email ID दे सकते हैं. इससे आनेवाले सभी आर्टिकल्स की जानकारी आपको ईमेल पर ही मिल जाएगी.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading…Keep Growing…


Flag Code of India in Hindi: राष्ट्रिय ध्वज फहराने के नियम
5 (100%) 4 vote[s]

About the author

MN Hemant

MN Hemant is a Hindi Tech YouTuber and Blogger from Bokaro, Ranchi, Jharkhand of India. He is a Tech-Lover, heartly passionate about Smartphones, Gadgets and Future Technology.

Leave a Comment