FASTag Kya Hai

FASTag Kya Hai? फास्टैग कैसे मिलेगा?

Hi friends! क्या आपको पता है कि FASTag Kya Hai? अगर आपके पास एक कार है, तो अभी तक आपने इसके बारे में सुना ही होगा क्योंकि इसके बिना अब आपका काम चलने वाला नहीं है।

अभी अगर आप कहीं जाते हैं तो टोल प्लाज़ा में रुककर आपको पैसे देने होते हैं। लेकिन अगर आप FASTag बना लेते हैं, तो फिर आपको किसी भी टोल प्लाज़ा में रुकने की ज़रूरत नहीं है। आपके फास्टैग अकाउंट से अपने-आप टोल की निर्धारित रक़म काट ली जाएगी और आप बिना किसी टेन्शन के सफ़र कर सकते हैं।

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करने जा रहा हूँ कि FASTag Kaise Milega? फास्टैग आख़िर काम कैसे करता है और इससे आपको और क्या-क्या फ़ायदे हो सकते हैं।

FASTag Kya Hai?

फ़्रेंड्स, सबसे पहले हम यह जानते हैं कि फास्टैग क्या है? तो मैं आपको बता दूँ, FASTag भारत का इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम है। दुनिया के अलग-अलग देशों में टोल कलेक्शन की इलेक्ट्रॉनिक प्रणालियाँ हैं।

FASTag का संचालन राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) करता है। यस सिस्टम 15 दिसम्बर, 2019 से पूरे देश में लागू हो गया है। इस प्रकार NHAI के अधीन काम करनेवाले सभी 560 टोल प्लाज़ा इसके अंतर्गत आ गए हैं।

इसकी शुरुआत 4 नवम्बर, 2014 को अहमदाबाद और मुंबई के बीच स्वर्ण चतुर्भुज राजमार्ग पर हुई थी। जुलाई 2015 में चेन्नई-बेंगलुरु राजमार्ग के टोल प्लाज़ा इसके सहारे भुगतान को स्वीकार करने लगे।

FASTag ke Phayde (Benefits)

  • इसके कारण अब राजमार्गों पर बने टोल प्लाज़ा काउंटरों के सामने लाइनें बंद हो जाएँगी।
  • आप बिना रुके ही toll tax जमाकर अपनी यात्रा कर सकते हैं।
  • आपको कैश की भी झंझट नहीं होगी।
  • सरकार ने सभी वाहन मालिकों के लिए Fastag अनिवार्य कर दिया है।
  • शुरुआत में टोल प्लाज़ा पर एक लेन ऐसी भी होगी, जिसमें नक़द भुगतान स्वीकार किया जा सकेगा।
  • Fastag वाहन पर नहीं लगाएँगे, तो ऐसे वाहनों को टोल प्लाज़ा पर सिर्फ एक लेन से गुजरने की अनुमति मिलेगी और उन्हें जाम से जूझना पड़ सकता है।

FASTag Kaam Kaise Karta Hai?

यह radio frequency identification (RFID) तकनीक पर काम करनेवाली प्रणाली है। यह वैसी ही प्रणाली है, जो मेट्रो ट्रेन के स्मार्ट यात्रा-कार्ड में होती है।

यह ऐसी व्यवस्था है, जिसमें वाहन मालिक टोल प्लाज़ा पर या तो अपने किसी प्रीपेड या सेविंग्स बैंक खाते से भुगतान करता है। यह वाहन के विंड स्क्रीन पर लगा होता है, जिसके कारण टोल प्लाज़ा पर उसे रुककर भुगतान नहीं करता होता है और इलेक्ट्रॉनिक भुगतान हो जाता है।

FASTag Kya Hai

जनवरी 2019 में Indian Oil, Bharat Petroleum & Hindustan Petroleum जैसी कम्पनियों  ने पेट्रोल पम्प पर Fastag के मार्फ़त पेट्रोल ख़रीदने की व्यवस्था भी कर दी थी।

FASTag Kaise Banaye?

फास्टैग को amazon.in/Paytm जैसे e-wallets के अलावा बैंकों से भी ख़रीदा जा सकता है। पिछले कुछ समय से देश में बिकने वाले नए वाहनों में Fastag पहले से लगा होता है।

Fastag पेटीएम या ऐसे ही किसी वॉलेट से या डेबिट/क्रेडिट कार्ड से जुड़ा होता है। वाहन के मालिक को रीचार्ज या टॉप अप करना पड़ता है। यदि यह एकाउंट किसी बचत खाते से जुड़ा है, तो उसके खाते से पैसा खुद-ब-खुद काट जाएगा, पर खाते में इतना पैसा होना चाहिए कि वह काम न पड़े।

जैसे ही वाहन टोल प्लाज़ा पार करेगा वाहन स्वामी के पास पैसा कटने का SMS आएगा। बैंकों के अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की आओर से जारी Fastag भी उपलब्ध हैं। शुरुआती दिनों में Fastag कई तरह के कैशबैक और छूट भी दे रहे हैं।

Fastag ख़रीदने के लिए वाहन के रजिस्ट्रेशन सर्टिफ़िकेट की एक कॉपी और वाहन स्वामी के पास्पोर्ट साइज़ के फ़ोटो की ज़रूरत होती है। इसके अलावा KYC दस्तावेज के रूप में ID & Address Proof की ज़रूरत होगी। इसके लिए PAN Card, Driving License, Passport, Voter ID, आधार काम करेंगे। 

Conclusion: FASTag Kya Hai?

तो फ़्रेंड्स, बस यही है Full Information of FASTag in Hindi. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा और अब आपको यह भी अच्छे-से समझ में आ गया होगा कि FASTag Kya Hai?

Online FASTag Kaise Banaye? इससे सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल हो, तो नीचे Comment कर ज़रूर बताएँ। अगर आप इसी तरह के और Informative Blogs in Hindi पढ़ना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं।

अभी के लिए बस इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ। Keep Reading… Keep Growing…


Leave a Comment