Depression Kya Hai? अवसाद के लक्षण और इलाज: Depression दूर कैसे करें?

1
30

Depression Kya Hai? अवसाद दूर कैसे करें?

Hi friends! क्या आपको पता है कि Depression Kya Hai? वैसे जो व्यक्ति depression यानि अवसाद का शिकार होता है, उसे खुद पता भी नहीं होता है क्योंकि हर वक़्त वह चिंता में रहता है.

आज की भाग-म-भाग वाली जीवन शैली, पारिवारिक और office की जिम्मेदारियों में तालमेल बिठाने की जद्दोजहद के चलते लगभग हर वर्ग के लोगों के बीच अवसाद (Depression) मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. कई बार इसका परिणाम आत्माहत्या के रूप में सामने आता है.

Mental Depression को समझने के लिए हमें इस रोग के बुनियादी स्वरूप को समझना जरुरी है. जैसे कुछ समय के लिए होने वाली तनावपूर्व स्थिति को हम डिप्रेशन नही कह सकते.

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करने जा रहा हूँ कि Depression Kya Hai? Mental Depression ke Lakshan aur Ilaj Kya Hai? अगर आप भी Depression Dur Kaise Kare? इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़ें.

Depression Kya Hota Hai?

फ्रेंड्स, सबसे पहले हम यह बात करते हैं कि आखिर Depression Kya Hai? कुछ समय के लिए चिंतित होना या तनावग्रस्त स्थिति को हम depression या अवसाद नहीं कह सकते हैं.

विशेष विपरीत परिस्थितियों में सभी लोगों को दुःख या तनाव महसूस होता ही है. लेकिन Depression ऐसा मनोरोग है, जिसमें पीड़ित व्यक्ति लगातार काफी समय तक अत्यधिक उदासी और नकारात्मक विचारों से घिरा रहता हैं. यही नहीं वह शारीरिक रूप से भी शिथिल महसूस करता हैं.

Depression Kya Hai

इसे भी पढ़ें: Dentist Kaise Bane?

Reasons of Depression Kya Hai?

अब हम Depression ke Kaaran के बारे में बात करते हैं. विपरीत स्थितियों के साथ तालमेल स्थापित करने में लगातार कई दिनों तक विफल रहना तो एक कारण है ही.

लेकिन नवीनतम शोध-अध्ययनों के अनुसार mental depression का एक अन्य प्रमुख कारण Serotonin नामक Neuro-chemical की कमी से संबंधित हैं.

Serotonin Neuro-chemical मस्तिष्क में पाया जाता हैं, जो भावनाओं को जागृत करता हैं. इस केमिकल की कमी या imbalance से डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति नकारात्मक सोच महसूस करते हैं. ऐसे व्यक्ति हर बात में नकारात्मक पहलू ही देखते हैं.



Symptoms of Depression Kya Hai?

मैंने आपको बता दिया कि Depression Kya Hai? इसके क्या-क्या कारण हैं. अब अगर आपका सवाल है कि Depression ko Kaise Pahchane? तो इसके लिए आपको Depression ke Lakshan के बारे में जानना होगा.

  • जैविक लक्षण (Biological Symptoms): जैसे नींद का न आना या अत्यधिक आना, भूख न लगना, शारीर में थकान (tiredness) व दर्द महसूस होना. इसके अलावा कामेच्छा में कमी महसूस करना और बात-बात पर गुस्सा आना.
  • संज्ञानात्मक लक्षण (Cognitive Symptoms): विचारों में नकारात्मक सोच आना, स्वयं को हालात के सामने असमर्थ महसूस करना.
  • समाज से अलग-थलग: व्यक्ति सामाजिक गतिविधियों में भाग लेने से कतराता है.

इसी तरह वह अपने व्यवसाय से सम्बंधित जिम्मेदारियों का निर्वाह करने में स्वयं को असमर्थ महसूस करता है. ऐसे में अगर आप देखें तो Depression ke Nuksan बहुत हैं.

Treatment of Depression Kya Hai?

यदि आपका कोई जानने वाला अवसाद से जूझ रहा हो, तो Depression ka Ilaj Kya Hai? इस बारे में मरीज को यह आश्वस्त करना चाहिए कि डिप्रेशन एक ठीक होने वाली बीमारी है.

यदि कोई व्यक्ति दो सप्ताह से अधिक वक्त तक दुःख, चिडचिडापन, निजी और सामाजिक मामलों में दिलचस्पी नहीं ले रहा हैं, तो उसे मदद की आवश्यकता है.

ऐसी स्थिति में आप सहायता का हाथ बढा सकते हैं. ध्यान रहे कि यह सहायता निर्देशात्मक न हो, डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति के आसपास रहें, उसकी बात सुनें और उसके अनुभवों के लिए उनकी आलोचना न करें. किसी मनोरोग विशेषज्ञ से मदद लेने में उनकी सहायता करें.

Depression Kya Hai Treatment

Mental Depression Treatment in India

भारत में 90 प्रतिशत मानसिक बीमारी से पीड़ित लोग उपचार की सुविधा की पहुँच से बाहर हैं. ऐसा इसलिए, क्योंकि देश में मानसिक बीमारी को एक कलंक की तरह देखा जाता हैं.

मैं पागल नहीं हूँ” तो फिर मैं मनोरोग विशेषज्ञ के पास क्यों जाऊं? रोगी की इस सोच को बदलने की जरुरत है.

भारत में हर तीन मिनट में एक व्यक्ति आत्महत्या करता हैं, इससे भी ज्यादा अफसोस इस बात का हैं कि depression की बीमारी का इलाज होते हुए भी ऐसा होता है.

यदि आप डिप्रेशन के साथ जी रहे हैं तो याद रखिए कि इसमें आपकी कोई गलती नहीं हैं. मदद लेना बहादुरी का काम है, आप कुछ सप्ताह में ही depression के खिलाफ जंग जीत सकते हैं.



Depression Kaise Hota Hai?

आपमें से लगभग सभी लोगों को अब समझ में आ ही गया होगा कि Depression Kya Hai? अब सवाल आता है कि depression यानि अवसाद कैसे होता है?

इन दिनों उम्रदराज और व्यस्क व्यक्तियों के अलावा युवा वर्ग भी depression की गिरफ्त में तेजी से आ रहा है. इसका कारण यह है कि युवाओं को अपने करियर में स्थापित होने के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है.

इसके अलावा वह कम वक्त में कामयाबियों की सीढियां तेजी से चढ़ना चाहते हैं. उनमें धैर्य नहीं होता और जब वे अपने जीवन व career से संबंधित पहले से ही तय लक्ष्यों (targets) को पूरा नहीं कर पाते, तब उनके दिलोदिमाग में हताशा व कुंठा घर कर जाती है. यही कारण है युवावर्ग में mental depression की शिकायतें बढती जा रही हैं.

Depression ko Dur Kaise Kare?

जिन कारणों से आप तनाव में रहते हैं, उनका समाधान करके आप इससे बाहर निकल सकते हैं. सकारात्मक सोच, अपनी कार्यक्षमता और स्थिति के अनुसार व्यावहारिक लक्ष्यों को निर्धारित करने से इस समस्या का समाधान संभव हैं.

अगर समस्या हैं तो उसका समाधान भी हैं. डिप्रेशन लाइलाज रोग नहीं हैं. डिप्रेशन से ग्रस्त अनेक व्यक्तियों को डिप्रेशनरोधक दवाओं (Anti-depression medicine) से लाभ मिल जाता है.

डिप्रेशन के इलाज में psycho-education का अपना विशेष महत्त्व हैं. इसके अंतर्गत रोगी और उसके परिजनों को रोग कारणों व उसके इलाज के बारे में समझाया जाता है.

इसके बाद supportive treatment यानि रोगी के परिजनों के सहयोग की जरुरत पड़ती है, लेकिन इस रोग के इलाज में cognitive behavior therapy सर्वाधिक कारगर साबित होती है.

इस थेरेपी की मान्यता है कि हमारे विचार, भावनाएं और व्यवहार आपस में संबंधित है. इस therapy के अंतर्गत विभिन्न मनोचिकित्सकीय विधियों के जरिए और काउंसलिंग के माध्यम से रोगी के दिमाग को सकारात्मक विचारों की ओर मोड़ा जाता है.



Depression ke Nuksan & Negativity

नकारात्मकता की प्रवृत्ति तीन प्रकार की होती हैं.

  1. असहायता: मैंने हालात से सामना करने में असहाय हूँ.
  2. मैं किसी काम का नहीं हूँ और मैं सब पर बोझ बन चूका हूँ.
  3. आशाहीनता: जैसे अब कुछ नहीं हो सकता. चाहे कुछ भी प्रयास किया जाए.

इसके अलावा अन्य कारणों में अनुवांशिक कारण (heredity reasons) से भी व्यक्ति में serotonin की कमी हो सकती है.

Depression Kya Hai Pregnancy Depression

इसी तरह महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान progesterone नामक hormone की मात्र बढ़ जाती है, लेकिन गर्भावस्था के बाद progesterone hormone कम होने लगता है. इस स्थिति में 100 में से 20 महिलायें depression से ग्रस्त हो सकती है.

Conclusion: Mental Depression Kya Hai?

तो फ्रेंड्स! बस यही है Depression Full Information in Hindi. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल Depression Kya Hai? अच्छा लगा होगा. और अब आपको Depression ke Lakshan, Kaaran और इसके इलाज के बारे में भी पता चल ही गया होगा.

Depression यानी अवसाद को दूर कैसे करें? इससे सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई सवाल हो, तो निचे Comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के Health Blogs in Hindi पढना चाहते हैं, तो आप हमारे Email Newsletter में अपना Email ID दे सकते हैं. इससे आनेवाली सभी आर्टिकल्स की जानकारी आपको ईमेल पर ही मिल जाएगी.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


Depression Kya Hai? अवसाद के लक्षण और इलाज: Depression दूर कैसे करें?
4.3 (85.88%) 17 vote[s]

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here