Christmas Day ki Shuruaat Kaise Hui? क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है पर निबंध

0
34
Christmas Day ki Shuruaat Kaise Hui

Hi Friends! क्या आपको पता है Christmas Day ki Shuruaat Kaise Hui? क्रिसमस का त्यौहार पुरे विश्व के इसाई धर्म के लोगों का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण पर्व है. इस दिन सभी लोग बच्चे, युवा एवं बूढ़े चर्च जाकर ईसा मसीह की प्रार्थना करते हैं और क्रिसमस का गीत गाते हैं.

इस पर्व को इसाई धर्म के अलावा दुसरे धर्म के लोग भी मानते हैं, जो क्रिसमस को मानते हैं या जो ईसा मसीह को मानते हैं.

सभी त्योहार को मनाने के पीछे एक मकसद होता है कि “ लोगों में एकता और भाईचारे की भावना” जागृत हो. क्रिसमस का त्यौहार भी एकता और धर्मनिरपेक्षता को बढ़ावा देता है. इसे किसी भी धर्म, जाति के लोग मना सकते हैं.

तो आज मैं आपसे इसी विषय पर बात करने जा रही हूँ कि Christmas Day ki Shuruaat Kaise Hui? अगर आप भी जानना चाहते हैं, कि Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai? तो आप यह आर्टिकल Christmas Day History in Hindi अंत तक जरुर पढ़ें.

Christmas Day Kab Manaya Jata Hai?

फ्रेंड्स, सबसे पहले हम बात करेंगे कि Christmas day Kab Celebrate Kiya Jata Hai? क्रिसमस का त्यौहार प्रति वर्ष 25 दिसम्बर को मनाया जाता है.

इस पर्व के दिन लोग भक्ति –भाव के साथ चर्च जाकर ईसा मसीह की प्रार्थना और बाइबिल पढ़ते हैं तथा एक-दुसरे से मिलकर उपहार देते तथा लेते हैं. चर्च में शामिल लोगों में से कोई व्यक्ति Santa Claus बनकर को खुश करते और मिठाई या कुछ उपहार बाँटते हैं.

Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai?

इसाई धर्म के लोग ईसा मसीह या यीशु के जन्मदिन को क्रिसमस के रूप में मानते हैं. इसी दिन Jesus Christ का जन्म हुआ था.इसी कारण क्रिस्चियन धर्म के लोग 25 दिसम्बर यीशु के जन्म दिन को क्रिसमस डे के रूप में मानते हैं.

Christmas Day ki Shuruaat Kaise Hui

क्योंकि ईसा मसीह क्रिस्चियन लोगों के लिए एक मसीहा की तरह  काम किये थे, तभी से उन्हें भगवान ईसा मसीह कहा जाने लगा.

Christmas Day Manane ki Shuruaat Kaise Hui?

अब हम बात करेंगे कि आखिर Christmas Day ki Shuruaat Kaise Hui. माना जाता है कि सबसे पहले रोमन कैलेंडर के अनुसार रोम में 336 ईसा में क्रिसमस डे मनाया गया था. उसके बाद से ही लोग इस्टर मनाने लगे.

ब्रिटेन में 1870 से क्रिसमस मनाया गया जाता है और तभी से राजकीय अवकाश भी दिया जाने लगा. यह पर्व कुछ देशों में 25 दिसम्बर से लेकर 13 दिनों तक मनाया जाता है. भारत में भी यह त्यौहार बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है और उस दिन सभी संस्थानों में सरकारी अवकाश भी रहता है.

Christmas Tree को मनाने की परंपरा 8वीं सदी से ही है, लेकिन ‘क्रिसमस पेड़’ को सजाना और त्यौहार की तरह मनाने की शुरुआत 1912 से हुई है. उस समय जोनाथन नाम का एक बच्चा बीमार था जो अपने पिता को Christmas Tree सजाने के लिए अनुरोध किया, उसी समय से क्रिसमस पेड़ को Christmas day में सजाया जाने लगा.

आधुनिक समय में लगभग 20000 लोग क्रिसमस पेड़ को उगाते हैं और प्रति वर्ष लगभग 30 लाख से अधिक असली क्रिसमस का पेड़ बिकता है.



Christmas Day Kaise Manaya Jata Hai?

सभी त्यौहार हो लोग अपने-अपने तरीके से मानते हैं, वैसे ही क्रिसमस पर्व को मनाने का अपना तरीका है.

  • इस्टर के दिन इसाई धर्म के लोग चर्च में जाकर प्रार्थना करते है, बाइबिल पढ़ते हैं और Christmas song गाते हैं.
  • सभी लोग एक-दुसरे को उपहार(gifts) देते हैं.
  • सांस्कृतिक कार्यकर्म का आयोजन किया जाता है, जिसमें सभी भाग लेते हैं.
  • सांता क्लोज बनकर बच्चों को मिठाई, चोकलेट देकर प्रसन्न करते हैं.
  • चर्च को क्रिसमस पेड़ से सजाया जाता है.

Christmas Day Essay in Hindi

युशी के जन्मदिन को क्रिसमस के त्यौहार के रूप में मानते हैं. ईसा मसीह के जीवन के बारे में बाइबिल में लिखा हुआ है. इनके जन्म के समय भगवान ने मनुष्यों को यह संकेत दिए थे कि आप सभी के बीच एक मसीहा का जन्म आप सभी के जीवन की रक्षा और ज्ञान देने के लिए होगा.

उसके बाद Jesus Christ का जन्म हुआ. इनकी माता का नाम मरियम और पिता का नाम जोसेफ था. इनके जन्म के समय इनकी माता का विवाह भी नही हुआ था उस समय यीशु के पिता बढ़ई (Carpenter) का काम करते थे.

Christmas Day par Nibandh in Hindi

माता मरियम के पास माँ बनने का सन्देश बताने के लिए एक दिन स्वर्गदूत आये और उन्होंने कहा कि जल्द ही आपकी एक संतान होने वाली है, उसका नाम Jesus रखना. वह बड़ा होकर राजा बनेगा और लोगो की सेवा और कष्टों को दूर करेगा.

तभी माता मरियम डर गयी और बोली मैं तो अभी कुँवारी हूँ ऐसा कैसे हो सकता है. देवता ने कहा कि यह एक चमत्कार होगा. उसके बाद माता मरियम और जोसफ की शादी हुई और वे युहुदी प्रान्त के बेथलेहम नामक गाँव में रहने लगे.

तभी एक रात ईसा मसीह का जन्म हुआ. उस रात आकाश में एक तारा बहुत अधिक चमक रहा था जिससे लोगों को अनुभव हो रहा था कि हम सभी के मसीहा का जन्म हुआ है, उसी दिन से आज भी ईसा मसीह के जन्म दिन को क्रिसमस के रूप में मनाया जाता है.

Conclusion: Christmas Day ki Shuruaat Kaise Hui?

तो फ्रेंड्स, बस यही है क्रिसमस डे के बारे में डिटेल लेख. मुझे आशा है कि आपको यह आर्टिकल Christmas Day History in Hindi अच्छा लगा होगा. और अब आपको अच्छे से समझ में भी आ गया होगा कि Christmas Day Kyu Manaya Jata Hai?

क्रिसमस डे की शुरुआत से सम्बंधित अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई भी सवाल हो, तो आप हमें निचे Comment कर जरुर बताएं. अगर आप इसी तरह के और भी Festival Blogs in Hindi पढ़ना चाहते हैं, तो आप हमें follow कर सकते हैं.

अभी के लिए इतना ही, जल्द ही मिलेंगे किसी नए topic के साथ. Keep Reading… Keep Growing…


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here